Samir's COVID-19 Relief Fund | Milaap
Milaap will not charge any fee on your donation to this campaign.

Samir's COVID-19 Relief Fund

            Hello, my name is Sameer Jadhav, from Gujarat, because of Coronavirus, I have stopped all the people in the country, but all those who are poor, who eat what they earn every day, have lost many people due to Lokdwan.  Bus, train, all are closed, there are many people who are unable to go to their own homes, many people have to walk on foot.  They are helping such people, but not everyone can reach everywhere, there are many small villages where people are not getting help and there are many people who do not have ration to eat in their house.  That is why we all have to save our country together, we should have as many poor and helpless people as possible in the village on the street and donate as much as possible.

          It is said that helping others is the greatest religion.  Help is something that every human being needs, whether you are old, child, or young;  There is definitely a time in everyone's life when we need the help of others.
        Today every person says that no one helps anyone, but ask yourself- Have you ever helped anyone?  If not, how can you expect help from others?
Try to come forward to help others, help as much as possible.
           Because anytime in life, anyone needs help.
          If you helped someone today, you can do it tomorrow.
           That is why we help each other lit the lamp with the lamp, do not know if there will be any chance in life again.
All tourist destinations in India have been closed due to Coronavirus.  Because of this, the lives of those people have been greatly affected, who were earning money with the help of the tourism industry.
                It is said that money should be added directly to the workers' accounts.  PM Modi's government has also promised to help the daily wage laborers suffering due to this epidemic.  But to implement these promises, governments will have to face some challenges.
According to the International Labor Organization, at least ninety percent of the people in India work in non-organized sectors.
                These people work as security guards, sweepers, rickshaw pullers, hawkers who sell goods, garbage collectors, and housekeepers.
Most of these people do not get a pension, sick leave, paid leave, and any kind of insurance.  Many people do not have bank accounts.  In such a situation, his and his family's life depends on the same cash income that they take home after working all day.

            People are already so upset with this lockdown that they have lost courage. These people think that hunger is more dangerous than corona and it will kill stomach hunger.  These people say that more people will die of starvation than Corona

          There are many problems in our country, such as there are many people who do not have a say in 2 times, in many small villages, there is no school and there is no hospital, and where it is not treated properly.  There are people who are not able to send their survivors to school and like the farmer who takes a loan from the bank, if his crop is good, then he does not know the loan, there are many such farmers.  De  But there are many people who do not have them, they commit suicide by getting into trouble, just like those poor people who are earning a living, they do not give bank B loans because the document for taking loan from the bank  Many seem to be the property or those who have all the property papers, if those people do not get a loan soon, then what will be available to such poor people who are not educated and who do not have their own house  If such people would not get a B loan from the bank, the government has come out with many Saari Garib Kalyan Yojana, but only 10 out of 100 people get the benefit from it, then such people take money from interest in every village under compulsion  I am a businessman who pays money from interest, he has made business without licensing and gives money from interest with more percentage (%) like 10%, 30% and 50% and then he  Poor helpless  Dami takes money for his needs under compulsion and the person who gives the money can write it properly on the stamp paper, he does not write how much interest he only pays, but he takes interest from those people every day every month and every year.  He fights that poor helpless man, he takes a lot of interest from his given amount, then he keeps asking for money in such a way that he gets trapped in the affair of a person, then he comes to his house and looks at him  He turns the street and goes to disturb everyone in the evening, he is disturbed by the mentally, because of this all the people of his house get upset, finally many people commit suicide like this, I owe money to these interests.  We have to stop the business of every kind of people, we have to feed every hungry, many people do not have a house to live, like that people are out of the temple, at the bus stop,  On the railway station, on the footpath, there live in such a place and many elderly people leave them from their remaining houses and leave them in the Anath Ashram, to help such people, Anath, helpless, widowed woman, Aapang, all such people  There are many such problems, but for now, you have to fight with Coronavirus, because of Coronavirus, you need to help with the need, to see that there is no earthquake in every house in every village.

                We all know that the Covid-19 situation is slow in front of our eyes and it is important to support the Daily Wage Earner who took the most difficult steps.  Be it soaps, masks, sanitizers running immediately, or provision of food packets or medicines for those who have already dried all the resources - this amount will be used wisely.  A small contribution of yours can go a long way.  This money will be spent with my permission and by the volunteers who work with me, so be assured.

Progress will also be shared regularly.

For masks and sanitizers - this is because, in slum areas, not every house has a direct water supply.  At the time of quarantine itself, it is necessary that people do not gather at the local tap or tank and they wash their hands.  Sanitizers have come out on top of the urgent essentials.  Hand washing liquid and soap will also be provided, as well as repeated instructions on how to wash hands and avoid contact with too many surfaces.
The food bags being made will contain:
1. Wheat flour - 5 kg
2. Rice - 5 kg
3. Edible oil - 2 kg
4. Sugar - 2 kg
5. Tea - 1/2 kg
6. Pulses (Toor dal) - 1 kg
7. Salt - 1/2 kg
8. Soap / Sanitizer / Handwash - 3 pieces
9. Sanitary Pads - 1 Pack
10. Poha - 1 kg
11. Glucose Biscuits - 1 Pack

Currently, grocers and markets are in contact with how many bags can be made and distributed.
Others, who we know (confirmed by community activists) are already in short supply of essentials, will be provided food packets or milk-based ingredients.



In this way, I am doing as much as I can, because of Coronavirus, to help the poor helpless people and to feed every hungry, every need is to help the weak people, please support me and donate as much as you possibly can.  Save someone's life

1 - Keep your hands clean.
2- Cover the mouth while coughing or sneezing.                                                        3 - Do not touch the face frequently.4-Keep distance from people

Chik to link & watch this ~>

https://needforcorona.blogspot.com/?bl=Samir

                                              Thank you 

                  Translate to hindi

                 नमस्कार मेरा नाम समीर जाधव हे में गुजरात से हु कोरोनविरुस के वजह से पूरे देश मे लोकडोवान कर दिया हे सब बंद कर दिया हे पर जो गरीब लोग हे जो रोज कमा के खाते हे उन का क्या ओर लोकडोवान के वजह से बहोत  लोग फास गए हे बस, ट्रेन, सब बंद हे ऐसे बहोत सारे लोग हे जो उन के खुद के घर बी नही जा पा रहे हे कई लोग तो पैदल ही निकल पड़े हे कोरोनविरुस कि वजह से लोकडोवान करना पड़ा पुलिस,डॉक्टर,नर्स,सरकार ओर ऐसे कई लोग ऐसे लोगो की मदत तो कर रहे हे पर सब लोग सब जगह तो नही पहोच सकते ना ऐसे कई छोटे छोटे गाँव हे जहा लोगो को मदत नही मिल पा रही हे और ऐसे कई लोग हे जिन के घर मे खाना खाने के लिए राशन बी नही हे इस लिए हम सब मिल के हमारे देश को बचाना होगा हमारे पास आजु बाजू में गली में गाँव मे जितना हो सके उतनी गरीब और लाचार लोगो की मदत करे और जितना हो सके उतना दान करे कोई भूका हो तो उसे खान खिलाये
           कहा जाता है दूसरों की मदद करना ही सबसे बड़ा धर्म है। मदद एक ऐसी चीज़ है जिसकी जरुरत हर इंसान को पड़ती है, चाहे आप बूढ़े हों, बच्चे हों या जवान; सभी के जीवन में एक समय ऐसा जरूर आता है जब हमें दूसरों की मदद की जरुरत पड़ती है।
आज हर इंसान ये बोलता है कि कोई किसी की मदद नहीं करता, पर आप खुद से पूछिये- क्या आपने कभी किसी की मदद की है? अगर नहीं तो आप दूसरों से मदद की उम्मीद कैसे कर सकते हैं?
         कोशिश करे दूसरों की मदद के लिए आगे आये जितना हो सके बन सके हेल्प करे.
क्योंकि life में कभी भी कही भी किसी को भी help की जर्रुरत पड़ ही जाती है.
अगर आज आपने किसी की मदद की तू हो सकता है कल कोई तुम्हारी भी करे.
इसीलिए कहते है helping each other दीप से दीप जलाते चलो पता नहीं जिंदगी में फिर कभी कोई मौका मिले न मिले
           भारत में कोरोना वायरस की वजह से सभी पर्यटन स्थलों को बंद कर दिया गया है. इसकी वजह से उन लोगों की ज़िंदगियां काफ़ी प्रभावित हुई हैं जो कि पर्यटन उद्योग के सहारे पैसे कमा रहे थे.
       मजदूरों के खाते में सीधे पैसे डालने की बात कही है. पीएम मोदी की सरकार ने इस महामारी की वजह से परेशान होने वाले दिहाड़ी मजदूरों की भी मदद करने का वादा किया है. लेकिन इन वादों को अमल में लाने के लिए सरकारों को कुछ चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा.
अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन के मुताबिक़, भारत में कम से कम नब्बे फीसदी लोग गैर-संगठित क्षेत्रों में काम करते हैं.
ये लोग सिक्योरिटी गार्ड, सफाई करने वाले, रिक्शा चलाने वाले, रेहड़ी लगाकर सामान बेचने वाले, कूड़ा उठाने वाले और घरों में नौकर के रूप में काम करते हैं.
इनमें से ज़्यादातर लोगों को पेंशन, बीमार होने पर छुट्टी, पेड लीव और किसी भी तरह का बीमा नहीं मिलता है. कई लोगों के बैंक अकाउंट नहीं हैं. ऐसे में इनकी और इनके परिवार की ज़िंदगी उसी नकद आमदनी पर टिकी होती है जिसे ये पूरे दिन काम करने के बाद घर लेकर जाते हैं
           इस लॉकडाउन से लोग अभी से ही इतना परेशान हैं कि हिम्मत हार चुके हैं. इन लोगों को लगता है कि कोरोना से ज्यादा खतरनाक भूख है और यह पेट की भूख मार देगी. इन लोगों का कहना है कि कोरोना से ज्यादा लोग तो भुखमरी से ही मर जाएंगे

           हमारे देश मे एसे कई समस्या हे जेसे की ऐसे कई लोग हे जिन को 2 टाइम का खाना बी नसीब नही होता कई छोटे छोटे गांव में तो स्कूल बी नही हे और हस्पताल बी नही हे और जहाँ हे वह ठीक से इलाज बी नही होता ऐसे कई लोग हे जो उन के बचे को स्कूल बी नही भेज पाते और जैसे खेती करने वाला किसान बैंक से लोन ले के खेती करता हे उसकी फसल अछि हुए तो ठीक नही तो वो लोन नही चुका पता ऐसे कई किसान हे कई लोगो की लोन सरकार माफ् कर देता हे पर ऐसे कई लोग हे जिन की नही होती वो लोग परेशानी में आके आत्महत्या कर लेते हे ऐसे ही जो गरीब लोग होते हे रोज कमा के खाने वाले उन लोगो को तो बैंक बी लोन नही देती क्यों कि बैंक से लोन लेने के लिए डॉक्यूमेंट बहोत सारे लगते हे या फिर प्रॉपर्टी के कागज जिन के पास सब होता हे उन लोगो को बी लोन जल्दी नही मिल पाती तो ऐसे गरीब लोगों को क्या मिलेगी जो पढ़े लिखे बी नही होते जिन के पास खुद का घर बी नही होता तो ऐसे लोगो को बैंक से बी लोन नही मिलता सरकर ने कई सारि गरीब कल्याण योजना तो निकली हे पर उस मे बी 100 लोगो मे से 10 लोगो को ही उसका लाभ मिल पाता हे फिर ऐसे लोग व्याज से पैसे लेते हे मजबूरी में हर गांव में व्याज से पैसे देने वाले होते ही हे ऐसे लोगो ने तो बिज़नेस बना लिया हे बिना लाइसंस का धंदा करते हे और ज्यादा परसेन्टेज(%) से पैसे व्याज से पैसे देते हे जैसे कि 10%,30%ओर 50% तक ओर फिर वो गरीब लाचार आदमी मजबूरी में उसकी जरूरत के लिए पैसे ले तो लेता हे और पैसे देने वाला बी अछे से लिखना कर लेता हे स्टाम्प पेपर पे वो कितना व्याज वो नही लिखता सिर्फ कितने पैसे दिए वो पर हर दिन हर महीने हर साल उन लोगो से व्याज लेता हे उस गरीब लाचार आदमी को फस देता हे वो उसकी दिए गए रकम से तो कई ज्यादा व्याज लेलेता हे फिर बी पैसे माँगता रहता है ऐसे वो व्यजके के चक्कर मे फास जाता हे फिर वो उस के घर आके उसे परेशान करता हे गली गलोच कर के जाता हे सब लोगो के शामे उसे बहोत परेशान करता हे मेंटली तरोचर करता हे उसके वजह से उसके घर के सारे लोग परेशान हो जाते हे आखिर में कई लोग ऐसे ही आत्महत्या कर लेते हे मुझे इन व्याज से पैसे देने वालो का धंदा ही बंद करना हे हर जातुरत मंद लोगो की मदत करनी हे हर भूखे को खाना खिलाना हे कई लोगो को तो रहने के लिए घर बी नही हे वैसे लोग कही बी सोजातेय हे मंदिर के बाहर, बस स्टॉप पे ,रेलवे स्टेशन पे, फुट पाट पे, ऐसी जगह रहते हे और कई बुजुर्ग लोगो तो उन्हें उनके बचे घर से निकल के आनाथ आश्रम में छोड़ आते हे ऐसे कई लोग हे आनाथ, लाचार,विधवा महिला ,आपग, ऐसे सब लोगो की मदत करनी हे मुजे ऐसे कई समस्या हे पर अभी फिलहाल कोरोनविरुस से लढना हे कोरोनविरुस कि वजह जरूरत मंदो की मदत करनी हे हर गांव में गलीमें हर घर मे कोई भूक से ना मरे वो देखन हे
हम सभी जानते हैं कि कोविद -19 की स्थिति हमारी आंखों के सामने धीमी गति से चल रही है और सबसे कठिन कदम उठाने वाले डेली वेज ईयरनर का समर्थन करना महत्वपूर्ण है।  यह साबुन, मास्क, सैनिटाइज़र तत्काल चलाने या उन लोगों के लिए भोजन के पैकेट या दवाओं का प्रावधान हो, जो पहले से ही सभी संसाधनों के सूख चुके हैं - इस राशि का उपयोग समझदारी से किया जाएगा।  आपका एक छोटा सा योगदान, बहुत आगे बढ़ सकता है।  यह पैसा मेरी अनुमति से और मेरे साथ काम करने वाले स्वयंसेवकों द्वारा खर्च किया जाएगा, इसलिए निश्चिंत रहें।
प्रगति भी नियमित रूप से साझा की जाएगी।
मास्क और सैनिटाइज़र के लिए - यह इसलिए है क्योंकि स्लम क्षेत्रों में, प्रत्येक घर में सीधे पानी की आपूर्ति नहीं है।  स्वयं संगरोध के समय, यह आवश्यक है कि लोग स्थानीय नल या टंकी पर इकट्ठा न हों और वे अपने हाथ धोते रहें।  तत्काल आवश्यक चीजों के शीर्ष पर सेनिटाइज़र बाहर आ गए हैं।  हाथ धोने के तरल और साबुन भी प्रदान किए जाएंगे, साथ ही हाथों को कैसे धोना है और बहुत सी सतहों के संपर्क से बचने के बारे में बार-बार निर्देश दिए गए हैं।
बनाये जा रहे खाने के थैलों में होगा:
1. गेहूं का आटा - 5 किलो
2. चावल - 5 किलो
3. खाद्य तेल - 2 किलो
4. चीनी - 2 किलो
5. चाय - 1/2 किलो
6. दलहन (तोर दाल) - 1 कि.ग्रा
7. नमक - 1/2 किलो
8. साबुन / सैनिटाइज़र / हैंडवाश - 3 नग
9. सैनिटरी पैड - 1 पैक
10. पोहा - 1 किलो
11. ग्लूकोज बिस्कुट - 1 पैक
वर्तमान में ग्रॉसर्स और बाज़ारों के संपर्क में हैं कि कितने बैग बनाए और वितरित किए जा सकते हैं।
दूसरे, जिन्हें हम जानते हैं (सामुदायिक कार्यकर्ताओं द्वारा पुष्टि की गई) पहले से ही आवश्यक चीजों की कम आपूर्ति में हैं, उन्हें भोजन के पैकेट या दूध पर आधारित सामग्री उपलब्ध कराई जाएगी। 
    इस तरह मुझसे जितना हो सकता हे उतना में कर रहा हु कोरोनविरुस की वजह से गरीब लाचार लोगो की मदत करना और हर भूखे को खाना खिलाना हर जरूरत मंद लोगो की मदत करनी हे प्ल्ज़ मुजे सपोर्ट करे और जितना हो सके उतना दान करे शायद आप के वजह से किसी की जान बच जाएं
1-अपने हाथों को साफ करते रहें.
2-खांसते या छींकते समय मुंह को ढंक लें.
3-चेहरे को बार-बार न छुएं.
4-लोगों से दूरी बनाकर रखें
खाता विवरण ~>
(1)
नाम - समीर एम जाधव
खाता संख्या - 30808847275
IFC कॉड - SBIN0000281
खाता टाइप- सीडिंग
बैंक - भारतीय स्टेट बैंक (SBI) सोनगढ़ शाखा।
(2)
नाम - समीर एम जाधव
खाता संख्या - 6352143768
IFC कॉड - AIRP0000001
खाता टाइप- सीडिंग
बैंक- एयरटेल पेमेंट्स बैंक
(3)
प्राथमिक VPA ~> 6352143768 @ एयरटेल
QR code




फोन नंबर ~ 6352143768
Chik to link & whatch this~>
                                                      https://needforcorona.blogspot.com/?bl=Samir                                                            
                                                        धन्यवाद

Download your payment receipt
(Bank transfer, QR Code donations)

Pan card
Pan card
Aadhaar card back sid
Aadhaar card back sid
Aadhar card
Aadhar card

Download your payment receipt
(Bank transfer, QR Code donations)

Ask for an update
30th May 2020
30th May 2020
30th May 2020
Rs.0 raised

Goal: Rs.10,000,000

Beneficiary: Poor People info_outline