Bodhgaya Math Library Books And Ancient Documents Restoration . | Milaap
Bodhgaya Math Library Books And Ancient Documents Restoration .
4%
Raised
Rs.26,867
of Rs.6,40,000
20 supporters
  • SS

    Created by

    Sangram Singh
  • BM

    This fundraiser will benefit

    Bodhgaya Math Library

    from Bodh Gaya, Bihar

Story

बोधगया स्थित आद्यशंकराचार्य के दशनामी संप्रदाय के गिरिनामा सन्यासियों का मठ है। मान्यता है की मट का स्थापना सन् 1590 मैं हुआ था।
मठ ने शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सैकड़ों एकड़ भूखंड और नगद राशि दान दिया । मठ की भूमि पर 1963 में मगध विश्वविद्यालय स्थापित ह हुंआ। ईस्के आलावा गया कॉलेज गया, अनुग्रह मेमोरियल कॉलेज, शेरघाटी स्थित श्री महंत शतानंद गिरि कॉलेज, डोभी, फतेहपुर और सुलेबट्टा में उच्च विद्यालय की स्थापना के लिए भूखंड दान दिया गया। संस्कृत भाषा को बढ़ावा देने के लिए संस्कृत महाविद्यालय की स्थापना बोधगया में कराकर दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय से संबद्धता दिलाया गया।

बोधगया मठ पुस्तकालय 600 वर्षों के आसपास स्थापित किया गया था यहां प्राचीन भाषा में लिखे पुस्तक और दस्तावेज़ के साथ साथ आधुनिक साहित्य में किताबें भि है। पिछ्ले 2-3 दशकको के देखभाल के अभाव से पुस्तक और दस्तावेज़ बहुत जर जर अवस्ता में है और इसका सनरक्षण नहीं किया गया तो पूरा ज्ञान लूपट हो जायेगी

The following activities/ equipment need to be taken up
treatment of damaged books, commercial Dehumidifiers, computers,
high quality scanner different sizes,
industrial vaccine cleaners, salaries for skilled staff for 4 months

Bodhgaya Math which was established in 1590 and has donate land and money to various educational institutions like Magadh University has been established 1962. Gaya College, Isha Gaya, Anugraha Memorial College, Sri Mahant Shatanand Giri College, High School at Dobhi etc.
The Bodhgaya Math Library was established around 600 years and has books and documents written in ancient language as well as books in modern literature. Due to lack of care for the last 2-3 decades, books and documents are very bad condition and if it is not preserved we will loose the knowledge and wisdom of our ancestors



Read More

support