Help My Father Get Treated For His Eye-Sight Loss | Milaap
Milaap will not charge any fee on your donation to this campaign.

Help My Father Get Treated For His Eye-Sight Loss

Ask for an update

Story

आप सभी को हाथ जोड़कर प्रेमपूर्वक नमस्कार। मैं शांति कुमारी वेस्ट बंगाल आसनसोल मैं रहने वाली हूं। जैसा कि आप सभी को बताना चाऊंगी हमारे पिताजी रतनलाल ने पिछले 28 वर्षों से एक प्राथमिक विद्यालय में सफाई कर्मचारी के रूप में कार्यरत रहे। अतः अब हमारे पिताजी के दोनों आंखों की रोशनी चली गई है स्वास्थ्य भी कमजोर हो गया है। हमारे पास कुछ भी बचत पैसा नहीं है। हमारे माता जी की कुछ वर्षों पहले एक गंभीर बीमारी के कारण मृत्यु हो गई थी और वह हमें छोड़कर स्वर्गवासी हो गए। मेरी माँ की बीमारी से बचाने के लिए मेरे पिताजी ने अथक प्रयास की पर वो मेरी माँ को नहीं बचा पाए। मेरी माँ को बचाने के लिए मेरे पिताजी ने कुछ पैसे कर्ज के लिए थे आज वह पैसा लाखों से ऊपर जा चुके हैं। और अब वह देने में असमर्थ हो गए हैं हमारी स्थिति बहुत ही चिंताजनक बन गई है। मेरी इस दुनिया में मेरे पिताजी के सिवा कोई नहीं है मैं अविवाहिता हूं। अब मैं अपने पिताजी के लिए आंगनबाड़ी केंद्रों में काम करती हूं उससे जो तनख्वाह मिलती है वह तो कर्ज भरने में चली जाती है हमारे पास कुछ नहीं बचता है। हमारा अपना मकान भी नहीं है  हम बरसों से किराये के मकान में रहते हैं । किराया समय पर ना देने पर मकान मालिक  घर से निकलने की धमकी देते हैं ।हमारी घर की बिजली भी काट दी गई है। मैंने अपने काम की शुरुआती दिनों तक जैसे तैसे करके पापा की दवाई भोजन घर खर्च घर का किराया चलाने की कोशिश की। पर अब असंभव हो गया है हमारे चारों ओर सिर्फ अंधेरा हो गया है। कई बार मोहल्ले समाज के अच्छे लोगों ने सहयोग की ।जैसे कि राशन दवा के लिए आर्थिक सहयोग की पर हमारी आर्थिक स्थिति ज्यों की त्यों बनी रही। हम जब तक कुछ पैसे कर्जदारों को नहीं देती हुं तब तक हमारी स्थिति नहीं ठीक होगी हमें रोजाना दो वक्त की भोजन नहीं मिल पाता है पिताजी की दवा भी पैसा के बिना नहीं हो पाती है ।हमारे पास खोने के लिए कुछ नहीं सिर्फ लाज बची है। मेरी इच्छा है मेरे पापा को अच्छा भोजन है मिले उनकी आँखों की रोशनी मिले समय पर दवा दे सकू। हमारी जिंदगी बीमारी से भी बढ़कर है। अतः हमें आपकी आशीर्वाद के जरूरत है हमारी आपसे विनती है प्रार्थना है हमारी थोड़ी सी भी सहयोग करें । आप हमारी जिंदगी की अंधेरा दूर कर सकते हैं मेरे पिताजी की आंखों की रोशनी मिल सकती है आपकी कोशिश से आपकी सहयोग से ।उदारता पूर्वक हाथ बढ़ाएं ।एक पिछड़े लाचार दरिद्र को सहयोग करें ।.आप महान दानकर्ताओं हमारी विनती है । आप हमारे लिए बहुत कुछ कर सकते हैं। हमारा मार्गदर्शन कराएं ताकि हमें रोशनी मिले। आप ज्यादा से ज्यादा अपने भाई मित्र गण परिवार में इसे शेयर करे । आप महान दानदाताओं से हमारी विनती है हमारी जिंदगी की डोर टूटने ना पाए। आप हमारे लिए बहुत कुछ कर सकते हैं।    मेरे पिताजी की आँखों की रोशनी मिल सकती है। आपकी  सहयोग से हमारे परिवार में खुशियां लेकर आएगी।    हमे दो वक्त भरपेट भोजन मिल सकता है                                       अनुरोध  शान्ति कुमरी

धन्यवाद।
Translation in English : Greetings to all of you with folded hands. I am a resident of Shanti Kumari, West Bengal Asansol. As my father Ratanlal would like to tell you, he worked as a cleaning worker in an elementary school for the last 28 years. So now our father's eyesight has gone away, his health has also become weak. We do not have any savings money. Our mother died a few years ago due to a serious illness and she left us and died. My father worked tirelessly to save my mother from his illness, but he could not save my mother. To save my mother, my father used to loan some money, today that money has gone above millions. And now that they are unable to give, our situation has become very worrying. There is no one in this world except my father, I am single. Now I work for my father in the Anganwadi centers, the salary he gets from him goes to pay the debt, we have nothing left. We do not even have our own house, we have lived in rented houses for years. Landlords threaten to leave the house if the rent is not paid on time. The electricity in our house has also been cut. By the early days of my work, I tried to run the fare of the house by spending my father's medicine meal. But now it has become impossible, it is just dark around us. Many times the good people of the local community supported us, such as economic cooperation for ration medicine, but our economic condition remained as it was. As long as we do not give some money to the borrowers, our situation will not be right, we do not get food for two times a day, my father's medicine also cannot be done without money. We have nothing left to lose . I wish my father had a good meal, he could be given medicine at the time of getting his eyesight. Our life is more than sickness. Therefore, we need your blessings, we request you to pray, help us a little bit. You can remove the darkness of our life, my father's eyesight can be found with your cooperation with your efforts. Extend hands generously. Support a backward helpless poor. You are our great donors. You can do a lot for us. Give us guidance so that we can get light. You should share it with your siblings. We request you, great donors, so that the doors of our lives are not broken. You can do a lot for us. My father's eyesight can be found. Your cooperation will bring happiness in our family. We can get full meal for two times, request. 

Download your payment receipt
(Bank transfer, QR Code donations)

Rs.0 raised

Goal: Rs.500,000

Beneficiary: Rantanlal info_outline