Help For the worst Flood in the recent history of Amour Baisa,Purnia | Milaap
This is a supporting campaign. Contributions made to this campaign will go towards the main campaign.
Help For the worst Flood in the recent history of Amour Baisa,Purnia
1%
Raised
Rs.500
of Rs.1,00,00,000
1 supporter
  • ME

    Created by

    Mohammed Ekramuddin
  • TI

    This fundraiser will benefit

    Tabish Iqbal

    from Kishanganj, Bihar

!! Human Appeal for Amour Baisa Flood Victims!!
Seemanchal Bihar is going through one of the worst phase since Independence because of the recent floods and nature’s fury.
More than 200 people feared dead, few hundred trapped and thousands of people are dying without food, safe drinking water and life savings medicines. The road and rail links have snapped off from the rest of India. The crops especially paddy, have been damaged badly or washed off in floodwater although the estimate of loss has not reported yet, it might be several thousand crores directly affecting to the overall GDP and economic growth of India.
The response of administration and govt. is very slow; it is taking the shape of an epidemic. The most worrying part is the health issue of the residents of those areas affected by floods. After the rainy season scores of infectious diseases come in the form of an epidemic.
To save the dying children and elderly people, we the team of Humans of Seemanchal make a humble request to donate generously for the cause. Please come forward and donate generously.
We assure you every penny will be spent to save those dying children and money will be disbursed to the needy through our Dream Public School Administration and our team. It necessarily may not be money, you can Donate medicines, food grains or anything you like but please let us come out of our homes and comforts.
Those interested can inbox us.
Thanks,
Team, Amour Baisa Welfare Association


एक अपील ! एक प्रार्थना
जैसा की आप सभी जानते हैं बिहार का सीमांचल छेत्र इस समय भीषण बाढ़ से बर्बाद हो गया है जो पहले से ही इतना पिछड़ा हुआ था अब बाढ़ ने इसको बुरी तरह से तबाह किया है की इसका सम्पूर्ण अस्तित्व को जड़ से हिला दिया है !
इसी सीमांचल छेत्र के पूर्णिया जिला अंतर्गत बायसी अनुमण्डल मैं अमौर बैसा प्रखंड है जिसका भोगोलिक दशा यह है की यह छेत्र पूरब से महानंदा नदी और पश्चिम मैं कन्कई नदी से घिरा है जहाँ की ज़्यादातर आबादी क्रषि पर निर्भर है जहाँ हर बार कभी आंधी कभी सुखा कभी सैलाब से लोग प्रभावित होते रहते हैं !
यहाँ संसाधनों की कमी होने की वजह से जिंदगी गुजर बसर करने का कोई दूसरा साधन नहीं है! इस छेत्र के अधिकतर लोग अपने गाँव से रोजी रोजगार के लिए देश विदेश मैं अपना योगदान दे रहे हैं और परिवार का भरण पोषण करते हैं !
अमौर बैसा मैं इस बाढ़ से जो नुकसान हुआ है उसको बयां करना मुश्किल है लोगों के पास जो कच्चे मकान थे वह पानी की तेज धरा मैं बह गए हैं रास्ते अपनी जगह से गायब है बूढ़े बच्चे महिला सभी सिर्फ मुश्किल से अपनी जान बचा पाये हैं न रहने को घर बचा है और न तन ढकने को कपड़ा सिर्फ बचा है तो सिसकती हुई ज़िन्दगी !
ऐसे मैं आप सभी से हमारी गुज़ारिश है प्रार्थना है की इस त्रासदी से बदहाल अमौर बैसा को आप सभी के सहयोग करें आप जिस रूप मैं सहयोग देना चाहें दे सकते हैं चाहे रुपया हो कपड़ा हो दवाई हो खाना हो प्लास्टिक हो घर बनाने के सामान हो आपका हर दान हर सहयोग हमें फिर से एक नई ज़िन्दगी शुरू करने मैं मददगार होगा !
हम आपसे वादा करते हैं की आपका पाई पाई हम हर ज़रूरत मन्दों और हर घरों तक पहुँचायेंगे.
हमारा संगठन अमौर बैसा वेलफेयर एसोसिएशन और ड्रीम पब्लिक स्कूल चिल्हाना आप सभी के सहयोग की उम्मीद करता है !
ज्यादा जानकारी के लिए हमसे सम्पर्क कर सकते हैं !
मिनहाज़ आलम डायरेक्टर ड्रीम पब्लिक स्कूल चिल्हाना मजगामा हाट बैसा


Read More

support