Contribute for poor children & make a child smile during pandemic | Milaap
Contribute for poor children & make a child smile during pandemic
1%
Raised
Rs.100
of Rs.490,000
1 supporter
  • Sanjeev

    Created by

    Sanjeev Kumar
  • uC

    This fundraiser will benefit

    underprivileged Children

    from Motihari, Bihar

Story

As we know that there has been almost complete Lockdown of schools and Factories since March 22nd 2020.
The pandemic has brought our country to a halt once again. The second wave of COVID-19 is proving to be more deadly than the first one and along with it, there are many things at stake.

So we need to help the under privileged students and labors to save their future and ultimately their life by providing them at least medical and educational essentials

The distribution of books and reading material has taken a backseat while India recuperates from this deadly virus.

Our initiative aims to ease the anxiety and stress that is being built up due to the devastating consequences that this pandemic has brought upon people. 

With this initiative, we are going to offer books, Notebook, pen as well as surgical mask, sanitizer to people who can not afford them right now due to various reasons, personal, financial and otherwise, but need them in order to grow and come out of this pandemic with not just grief but knowledge. While the situation is hard for everyone, we are hoping that these books will help people cope in these grim times.

Your single Rupee of Help can save a life and make a child smile.

Our team has started this initiative in my Block - Ghorasahan, in which consists of 200000 (Two Lacs) population at East Champaran District in Bihar.


Our estimate of essential items are as following:-

1. Surgical Mask 30000 × 3 = 90000 rs

2. Books 5000×20 = 100000 rs

3. Notebook 10000 × 10 = 100000 rs

4. Pen 10000 ×5  = 50000

5. Sanitizer 10000 × 10 = 100000 rs

6. Soap 10000×5 = 50000 rs

Our total cost estimate is 490000 (4 lacs and ninety thousands ). We need 490000 for which we have started this fund raiser campaign.
we have targeted to complete our plan before 10th of June 2021.

Please Help, Our team will be thankful to you forever.

Er. Sanjeev kumar
Social Activist
        &
Ex. Secretary - All India Students Association (AISA)

Madhusudan Kushwaha
Students Leader, East Champaran, Bihar



जैसा कि हम जानते हैं कोरोना महामारी के कारण 22 मार्च 2020 से ही स्कूलों और कारखानों में लगभग पूर्णतः तालाबंदी है।

इस महामारी ने एक बार फिर से हमारे देश को जकड़ लिया है। COVID-19 की दूसरी लहर पहले की तुलना में अधिक घातक साबित हो रही है।

इसलिए हमें गरीब-मजदूर तबके के बच्चों के भविष्य और उनके जीवन बचाने की दिशा में एक कदम आगे बढ़कर कम से कम किताबों और पठन सामग्री, मास्क, सेनिटाइजर आदि उपलब्ध कराने की आवश्यकता है। इस भयंकर महामारी ने सब से ज्यादा इन गरीब-मजदूर तबके के बच्चों के शिक्षा पर गहरा प्रभाव डाला है।


हमारी पहल का मुख्य उद्देश्य उस चिंता और तनाव को कम करना है, जो लोगों पर इस महामारी के विनाशकारी परिणामों के कारण पैदा हुई है। मीडिया में इन गरीब बच्चों की समस्याओं को नजरअंदाज कर दिया गया है।

इस दुःख की घड़ी में इस पहल के साथ, हमें उन्हें किताबें, नोटबुक, कलम के साथ-साथ सर्जिकल मास्क, सैनिटाइज़र, साबुन आदि मुहैया कराने की आवश्यकता है, जिनका विभिन्न कारणों या आर्थिक स्थिति दयनीय होने के कारण अपने बच्चो को पठन सामग्री मुहैया नही करा पा रहे है। हम उम्मीद कर रहे हैं कि ये पठन सामग्री उनलोगों को इस कठिन समय से उभरने में मदद करेंगी।

आपका एक एक रुपया का मदद एक जीवन बचा सकता है और एक बच्चें को मुस्कान दे सकता है।

हमारी टीम ने यह पहल हमारे ब्लॉक - घोड़ासहन में शुरू की है, जिस में लगभग 2,00000 (दो लाख) की आबादी है।


आवश्यक वस्तुओं का हमारा अनुमान इस प्रकार है


1. सर्जिकल मास्क 30000 × 3 = 90000 rs

2. पुस्तकें 5000×20 = 100000 rs

3. नोटबुक 10000 × 10 = 100000 रुपये

4. पेन 10000 × 5 = 50000

5. सेनिटाइजर 10000 × 10 = 100000 rs

6. साबुन 10000×5 = 50000 rs



हमारा कुल लागत का अनुमान 4,90000 (4 लाख नब्बे हजार) रुपये की है। हमें इतने रुपये की जरूरत है जिसके लिए हमने फंड जुटाने का यह अभियान शुरू किया है।


हमने 10 जून 2021 तक अपनी इस योजना को पूरा करने का लक्ष्य रखा है।


कृपया हमारी मदद किया जाय, इस शुभ कार्य के लिए हमारी टीम हमेशा आपका आभारी रहेगा।

ई. संजीव कुमार,        
सामाजिक कार्यकर्ता
         सह
पूर्व जिला सचिव - आइसा
पूर्वी चंपारण, बिहार।


मधुसूदन कुशवाहा
छात्र नेता, पूर्वी चम्पारण, बिहार।

Read More

support