मेरी बोली मेरा स्कूल - मध्यप्रदेश की बोलियों में डिजिटल दूरस्थ शिक्षा | Milaap
मेरी बोली मेरा स्कूल - मध्यप्रदेश की बोलियों में डिजिटल दूरस्थ शिक्षा
1%
Raised
Rs.400
of Rs.10,000,000
3 supporters
  • MP

    Created by

    Manish Pandey
  • S

    This fundraiser will benefit

    Students

    from Madhya Pradesh

Story

मेरी बोली मेरा स्कूल


मध्यप्रदेश की बोलियों में डिजिटल दूरस्थ शिक्षा


 शिक्षा ही एक विकासशील समाज का आधार है। 5 वर्ष की आयु से 18 वर्ष तक की स्कूली शिक्षा को आधार भूत शिक्षा माना गया है, जिसके बाद विद्यार्थी अपनी रुचि एवं वरीयता के आधार पर आगे की उच्च शिक्षा के लिए अग्रसर होता है। प्राथमिक एवं माध्यमिक स्कूली शिक्षा का प्रमुख उद्देश्य विद्यार्थियों में अपने देश-काल-वातावरण के बारे में समझ विकसित करना एवं उन्हें आगे की शिक्षा के लिए मूलभूत आधार देना होता है। उच्चतर माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा में अंग्रेज़ी एवं हिंदी माध्यम का होना अनिवार्य है लेकिन प्राथमिक एवं माध्यमिक स्तर की शिक्षा में हिंदी के साथ साथ स्थानीय भाषा अथवा बोली का प्रयोग किया जाए तो अधिक फलदायी होगा। नयी शिक्षा नीति में भी प्राथमिक स्तर की शिक्षा को भी अनिवार्यतः स्थानीय भाषा में सुनिश्चित करना लक्ष्य रखा गया है।
मध्यप्रदेश की वर्तमान शिक्षा व्यवस्था में 1 लाख से अधिक विद्यालय हैं और अधिकांश में हिंदी अथवा अंग्रेज़ी माध्यम से पढ़ाई होती है। पूरे प्रदेश की आबादी का 70% से अधिक ग्रामीण अंचलों में बसता है और कमोबेश सभी लोग स्थानीय बोली में ही बोलचाल करते हैं। वर्तमान व्यवस्था में ग्रामीण अंचलों शासकीय विद्यालयों की ही बहुलता है और इन सभी विद्यालयों में विभिन्न कारणों जैसे चुनाव, जनगणना, सर्वे, प्राकृतिक आपदा इत्यादि की वजह से शिक्षकों की संपूर्ण उपलब्धता बहुत दुश्कर है। साथ ही सभी शिक्षकों की पाठन क्षमता की गुणवत्ता सुनिश्चित करना भी प्रशासन के लिए सदैव से चुनौती रहा है। 
“मेरी बोली मेरा स्कूल” प्रोजेक्ट, उक्तवर्णित समस्याओं के समाधान हेतु प्रस्तावित है। इस प्रोजेक्ट का उद्देश्य मध्यप्रदेश की 6 प्रमुख बोलियों में Live TV के माध्यम से समानांतर दूरस्थ शिक्षा प्रदान करना है। मध्यप्रदेश में जनसंख्या के आधार पर सबसे ज़्यादा बोली जाने वाली ६ बोलियाँ - मालवी, बुंदेली, बघेली, निमाड़ी, भीली एवं गोंडी हैं। इनके अलावा कोरकू, भिलाला एवं अन्य बोलियों का प्रयोग भी कुछ ज़िलों या क्षेत्र विशेष में होता है।
    
  • मध्यप्रदेश की प्रमुख बोलियाँ एवं उनका क्षेत्र:
    • मालवी
      • 6.45% जनसंख्या
      • जिला: मन्दसौर, उज्जैन, इंदौर, देवास, धार, रतलाम 
    • बुंदेली 
      • 5.92% जनसंख्या
      • जिला: जबलपुर, सागर, टीकमगढ़, छतरपुर, दमोह, पन्ना, नरसिंहपुर, रायसेन, होशंगाबाद, दतिया
    • बघेली 
      • 3.63% जनसंख्या
      • जिला: सीधी, रीवा, सतना, शहडोल, बालाघाट 
    • निमाड़ी 
      • 3.16% जनसंख्या
      • जिला: झाबुआ, खरगोन, खंडवा 
    • भीली 
      • 2.5% जनसंख्या
      • जिला: झाबुआ, अलीराजपुर, धार, खरगोन, बड़वानी, रतलाम
    • गोंडी
      • 1.57% जनसंख्या
      • Districts: शहडोल, उमरिया, अनूपपुर, बालाघाट, छिंदवाड़ा, मंडला
    • अन्य (कोरकू, भिलाला, बृज आदि)
      • 7%+ जनसंख्या

कार्य योजना:
  • प्रत्येक बोली में कक्षा 1 से 10 तक के लिए 8 लाईव टीवी चैनल। सुबह और शाम (पुनः प्रसारण) 2-4 घंटे की  पालियों में 30-30 मिनट की कक्षाओं का प्रसारण।
  • 6 बोलियों के लिए कुल 48 TV चैनल।

कक्षा वार प्रसारण समय:
30-30 मिनट के प्रसारण के बीच में 10-15 मिनट के विराम रखे गए हैं ताकि लगातार स्क्रीन देखने की वजह से थकान ना हो।
  1. कक्षा 1-4: 
    • सुबह - 2 घंटे , दोपहर (पुनः प्रसारण)  - 2 घंटे
    • कार्यक्रम:
      • हिंदी  - 30 Min
      • विराम  - 15 Min
      • अंग्रेज़ी  - 30 Min
      • विराम - 15 Min
      • गणित  - 30 Min
  2. कक्षा 5: 
    • सुबह - 2.5 घंटे, दोपहर/शाम  (पुनः प्रसारण) - 2.5 घंटे
    • कार्यक्रम:
      • हिंदी - 30 Min
      • विराम - 10 Min
      • अंग्रेज़ी - 30 Min
      • विराम - 10 Min
      • गणित - 30 Min
      • विराम - 10 Min
      • पर्यावरण  - 30 Min
  3. कक्षा 6-10:
    • सुबह: 4 घंटे, दोपहर/शाम (पुनः प्रसारण) - 4 घंटे
    • कार्यक्रम:
      • हिंदी - 30 Min
      • विराम - 10 Min
      • अंग्रेज़ी - 30 Min
      • विराम - 10 Min
      • संस्कृत - 30 Min
      • विराम - 20 Min
      • गणित - 30 Min
      • विराम - 10 Min
      • विज्ञान  - 10 Min
      • विराम - 10 Min
      • सामाजिक विज्ञान  - 30 Min


चैनल प्रसारण समय सारणी:
  1. Channel A (Class 1 & 2)
    1. 8:00 am - 10:00 am : Class 1
    2. 10:00 am - 12:00 pm : Class 2
    3. 1:00 pm - 3:00 pm : Class 1 (Repeat Telecast)
    4. 3:00 pm - 5:00 pm: Class 2 (Repeat Telecast)
  2. Channel B (Class 3 & 4)
    1. 8:00 am - 10:00 am: Class 3
    2. 10:00 am - 12:00 pm: Class 4
    3. 1:00 am - 3:00 pm: Class 3 (Repeat Telecast)
    4. 3:00 am - 5:00 pm: Class 4 (Repeat Telecast)
  3. Channel C (Class 5)
    1. 8:00 am - 10.30 am: Class 5
    2. 3.00 am - 5:30 pm : Class 5 (Repeat Telecast)
  4. Channel D (Class 6)
    1. 8:00 am -  12:00 pm: Class 6
    2. 2:00 pm - 6:00 pm: Class (Repeat Telecast)
  5. Channel E (Class 7)
    1. 8:00 am -  12:00 pm: Class 7
    2. 2:00 pm - 6:00 pm: Class (Repeat Telecast)
  6. Channel F (Class 8)
    1. 8:00 am -  12:00 pm: Class 8
    2. 2:00 pm - 6:00 pm: Class (Repeat Telecast)
  7. Channel G (Class 9)
    1. 8:00 am -  12:00 pm: Class 9
    2. 2:00 pm - 6:00 pm: Class (Repeat Telecast)
  8. Channel H (Class 10)
    1. 8:00 am -  12:00 pm: Class 10
    2. 2:00 pm - 6:00 pm: Class (Repeat Telecast)

Scope of Work:

Phase 1:
  1. Curriculum & Class Timetable Planning 
    1. Effort Required: Distribution of course content (Class 1st - 10th, total 41 subjects, average 100 number 30 min lectures of each subject) in 4100 episodes for each language. 
    2. Fund Required: 10 Lacs
  2. Shortlisting of Teachers and Training for Video Recording
    1. Effort Required: Inviting applications, shortlisting based on interview and written assignments. 3-5 days training on video recording methodology. 8-10 teachers required for each language. 
    2. Fund Required: 15 Lacs
  3. Recording of Lecture Videos at Bhopal Studio
    1. Effort Required: Total 25000 videos of 6 languages (4100 lectures each) of 30 minutes. Requires setup of recording station with 5 recording studios and accommodation of teachers for shooting period.
    2. Fund Required: 3 Crores (Station Infrastructure & Studios: 1 Cr, Equipments & Machinery: 50 Lacs, Operative Expense: 30 Lacs, Fooding & Lodging: 20 Lacs, Salaries: 1 Cr )
  4. Editing of lecture videos at central location by editing team
    1. Effort Required: Video editing of all 25000 video lectures and mixing of sub titles and key elements.
    2. Fund Required: 1 Crore (Salaries: 50 Lacs, Equipment & Servers: 50 Lacs)
  5. Production and live streaming of all channels from a central location.
    1. Effort Required: Production of 48 Live TV streams according to time table and uplink to YouTube Live Platform.
    2. Fund Required: 50 Lacs (Salaries: 25 Lacs, Connectivity & Operative Expense: 25 Lacs)
Phase - 2:
  1. Distribution of live streams to online platforms, cable tv networks and dth uplinking centers.
    1. Effort Required: Tie up with DTH Platforms, Local Cable TV Operators & OTT platforms to host TV Channels
    2. Fund Required: 5 Crores to 10 Crores (Depending upon the number of platforms chosen)


Project Duration: 1 Year



For More Details Contact:
Manish Pandey
CEO, Jetwave Solutions Pvt Ltd, Bhopal
manish@jetwave.in
+91-9229434143


निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल
बिन निज भाषा-ज्ञान के, मिटत न हिय को सूल ।
अंग्रेजी पढ़ि के जदपि, सब गुन होत प्रवीन
पै निज भाषा-ज्ञान बिन, रहत हीन के हीन ।
उन्नति पूरी है तबहिं जब घर उन्नति होय
निज शरीर उन्नति किये, रहत मूढ़ सब कोय ।
निज भाषा उन्नति बिना, कबहुं न ह्यैहैं सोय
लाख उपाय अनेक यों भले करे किन कोय ।
इक भाषा इक जीव इक मति सब घर के लोग
तबै बनत है सबन सों, मिटत मूढ़ता सोग ।
और एक अति लाभ यह, या में प्रगट लखात
निज भाषा में कीजिए, जो विद्या की बात ।
तेहि सुनि पावै लाभ सब, बात सुनै जो कोय
यह गुन भाषा और महं, कबहूं नाहीं होय ।
विविध कला शिक्षा अमित, ज्ञान अनेक प्रकार
सब देसन से लै करहू, भाषा माहि प्रचार ।
भारत में सब भिन्न अति, ताहीं सों उत्पात
विविध देस मतहू विविध, भाषा विविध लखात ।
सब मिल तासों छांड़ि कै, दूजे और उपाय
उन्नति भाषा की करहु, अहो भ्रातगन आय ।
- भारतेन्दु हरिश्चन्द्र

Read More

support