Ex-Servicemen Family Struggling For Self Respect | Milaap
Ex-Servicemen Family Struggling For Self Respect
78%
Raised
Rs.58,567
of Rs.75,000
51 supporters
  • AC

    Created by

    Aakash Chauhan And Palaksh Oswal
  • MP

    This fundraiser will benefit

    Mr. P R Judson Family

    from Neemuch, Madhya Pradesh

स्व श्री पी एल जडसन, जो कि 16 वर्ष की अल्प आयु से ही भारतीय वायुसेना में सेवारत रहे वो जाबांज सैनिक थे जिन्होंने मातृभूमि की रक्षा हेतु 12 वर्ष 303 दिवस की सेवा (Designation - Corporal) एवं CRPF की Signal Batallion में (Designation - ASI) पदस्थ रहकर साहसिक एवं उत्कृष्ट सेवा का प्रदर्शन किया, जिसके लिए उन्हें "रक्षा पदक" "संग्राम पदक" सहित 5 विशिष्ट पदको से अलंकृत किया गया। इन्होंने द्वितीय विश्वयुद्ध, 1965 के चीन युद्ध, पाकिस्तान के खिलाफ हुए युद्ध एवं नागालैंड के भारत में विलय के दौरान अपने पराक्रम से सभी को अचंभित किया और प्रधानमंत्री पुरस्कार से भी नवाजे गए।

दुर्भाग्य एवं शर्म की बात है कि राष्ट्रसेवा में अपना जीवन लगाने वाले इस वीर योद्धा का परिवार आज अपने जीवनयापन हेतु दर दर मदद की गुहार लगा रहा है। इन भूतपूर्व सैनिक की 90 वर्षीय विधवा पत्नी श्रीमती लवीना जडसन सहित उनके 2 पोते पोतियों एवं बहु के गुजर-बसर का एकमात्र सहारा उनके पुत्र जोसेफ जडसन है, जो की स्वयं CRPF के भूतपूर्व सैनिक रह चुके है और अपनी सीमित आय में संघर्ष पूर्वक अपने पारिवारिक दायित्वों को निभाने की कोशिश कर रहे है। श्री जोसेफ के अनुसार सरकार द्वारा प्राप्त पेंशन से उनकी वयोवृद्ध माताजी का स्वास्थ्य खर्च ही बमुश्किल निकल पाता है।

बकौल श्री जोसेफ, वह CRPF में अपनी कार्यसेवा के उपरांत विगत वर्षो में सीमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया, केंद्रीय विद्यालय एवं प्राइवेट बैंक इत्यादि में बतौर सिक्युरिटी गार्ड 1-1 वर्ष के अनुबंधित कर्मचारी रहे है एवं वर्तमान में एक निजी कंपनी में सिक्युरिटी गार्ड के रूप में कार्यरत है, जिससे उन्हें मात्र 6 से 7 हजार रूपए की मासिक आय हो पाती है, जो कि इस महंगाई के दौर में एक पूरे परिवार का लालन-पालन करने हेतु निश्चित तौर पर अपर्याप्त है।

अगर इस फंडरेजर अभियान से उन्हे जरूरी आर्थिक मदद मिल पाती है तो ऐसा होने पर वे अपनी आजीविका चलाने हेतु नवीन उपाय कर सकने की स्थति में होंगे एवं स्वाभिमान और परिश्रम से स्वयं के परिवार का भरण पोषण करने में सक्षम होंगे। परोपकार में किया गया कोई भी दान छोटा या बड़ा नही होता, आप अपने भावानुसार 100/- से लेकर कोई भी राशि यहां मौजूद अनेक पेमेंट विकल्पों से फौजी परिवार तक पहुंचा सकते है। आप सभी दान दाताओं से भावपूर्ण अपील है की इस फौजी परिवार को स्वाभिमान के साथ जीने में मदद करे और कृतज्ञ नागरिक होने का उच्च उदाहरण प्रस्तुत करे। जिससे कि कल को कोई और मां भी अपने बेटे, पति या स्वजन को निश्चिंत हो गर्व के साथ राष्ट्रसेवा हेतु भेज सके। जय हिंद

सभी प्रासंगिक एवं जरूरी दस्तावेज यहां अपलोड कर दिए गए है।


Read More

support