HELP MOUSHUMI FIGHT CANCER | Milaap
HELP MOUSHUMI FIGHT CANCER
26%
Raised
Rs.90,528
of Rs.3,50,000
67 supporters
  • Koushik

    Created by

    Koushik Ghosh Choudhury
  • MG

    This fundraiser will benefit

    MOUSHUMI GHOSH

    from Jamshedpur, Jharkhand

Resident of Jamshedpur  Mrs. Moushumi Ghosh, an English teacher and a lovely mother of one, has been a part of the teaching field for more than 20 years now and is one of the senior most English teacher in not only Narbheram Hansraj English school but also the entire Jamshedpur. She has been a constant inspiration to all her students.
Tragedy comes unawares. All was going well and she was fit and fine as a butterfly until very recently we came to know that she has been diagnosed with Stage 4 Ovarian cancer by the Doctors Tata Memorial Centre , Kolkata .
Husband of Mrs Ghosh, a retired person, is a Neuro Patient himself . She has a son and he is continuing his studies out of Jamshedpur .

The news came as jolt not only to us but to everyone who was acquainted with her. It's time that we help her out by doing our bit. No one has ever become poor by donating. Even the smallest penny can make a difference. It's about time that we pay back something in return to the community of the teachers. Let's join hands in getting her well soon.
We request everyone to donate for her treatment. If you do good to others , remember our good deeds always have a great way of coming back to us at hour of need.
***************************************************************
जमशेदपुर  निवासी 47 वर्षीय श्रीमती मौसमी घोष, एक जानी मानी अंग्रेजी शिक्षिका  और एक प्यारी माँ है , 20 से अधिक वर्षों से  शिक्षण क्षेत्र का एक हिस्सा  है मौसमी  केवल नरभेराम हंसराज अंग्रेजी में नहीं , बल्कि सबसे वरिष्ठ अंग्रेजी शिक्षक में से एक है  वह अपने सभी छात्रों के लिए एक  प्रेरणा की श्रोत  हैं।
अनहोनी बोलकर नहीं  आती है। सब ठीक चल रहा था और वह एक तितली के रूप में फिट और ठीक थी .  हाल ही में हमें पता चला कि उन्हें   टाटा मेमोरियल सेंटर, कोलकाता के डॉक्टर ने  स्टेज 4 ओवेरियन कैंसर की पुष्टि की ।
 श्रीमती घोष के पति सेवानिर्वित है एवं स्वयं न्यूरो पेशेंट हैं। उनका एक बेटा है और वह जमशेदपुर से पढ़ाई कर रहा  है।
यह दुखदायी खबर न केवल हमारे लिए बल्कि उसके साथ परिचित सभी के लिए झटका बन गई। यह समय है कि हम यथासंभव उनकी  मदद करें। दान देने से कोई कभी गरीब नहीं हुआ। यहां तक ​​कि सबसे छोटा से छोटा दान  भी इस मुहीम में फर्क कर सकता है। अब  समय है कि हम अपने गुरु माँ को अपनी गुरु दक्षिणा के रूप में अपना पूर्ण सहयोग दे.  आप सभी इस मुहीम के कामयाबी के लिए हमारा साथ डे ।
आप  सभी से इनके अच्छे  इलाज के लिए इस मुहीम में दान देने के लिए  अनुरोध करते हैं। यदि आप दूसरों का भला करते हैं, तो याद रखिए कि हमारे अच्छे काम हमेशा जरूरत के समय अपने  पास आने का एक शानदार माध्यम  है।

Read More

Know someone in need of funds for a medical emergency? Refer to us
support