Help Bride Trafficking Survivors of Panipat | Milaap
Milaap will not charge any fee on your donation to this campaign.

Help Bride Trafficking Survivors of Panipat

Phoolwati (name changed) lived on the outskirts of a village in Panipat district of Haryana. She had a blurred memory of the place she belonged to. She used to compare her past life with the present when her survival was dependent upon sidha (a kind of religious donation). She was sold off as Molki (one who is purchased) at an age around 13, in a house of traditional singers. She always despised her life in that house. Her husband didn’t work while the whole family was involved in daily wage work. She was forced to work as a dancer and later she was sent to the fields to work as an agricultural laborer. She was living in misery and abject poverty with almost no social and material security. Her husband abandoned her 10 years later. Like Phoolwati, hundreds of girls are trafficked as purchased brides every year in the region.
Empower People is an organization singularly focused on working with survivors and potential victims of bride trafficking. Its approach involves a community-based intervention to create a sustainable support mechanism through the active participation of stakeholders. Since 2006, Empower People is working for the empowerment of bride trafficking survivors. The organization is known for its works to protect, support and organize trafficked women and girls from the vicious cycle of trafficking.

Your donations will be used to extend active support to at least 250 such trafficked brides in Panipat district of Haryana. The nature of this support will include social and material assistance and rehabilitation. It will help to strengthen our fight against the social crime of bride trafficking and in restoring dignity and respect for survivors in society.

To know more about our organization and cause of bride trafficking, please visit our website: www.empowerpeople.org.in

If you've any query regarding the project, please feel free to connect to us on twitter: twitter.com/empowerpeoplein


Download your payment receipt
(Bank transfer, QR Code donations)

FCRA REGISTRATION CERTIFICATE
FCRA REGISTRATION CERTIFICATE

Download your payment receipt
(Bank transfer, QR Code donations)

Ask for an update
20th February 2020
फूलवती की कहानी

फूलवती (बदला हुआ नाम), हरियाणा के पानीपत जिले के एक गाँव के बाहरी इलाके में रहती थी। उसको उस जगह की धुंधली स्मृति थी। वह अपने पिछले जीवन की तुलना वर्तमान जीवन के साथ निरन्तर करती रहती थी। जब उसकी अजिविका का एक मात्र स्रोत सीधा (एक प्रकार का धार्मिक दान) था।
पारंपरिक गायकों के घर में उसे 13 साल की उम्र में मोलकी (जिसे खरीदा जाता है) के रूप में बेच दिया गया था। उसका पति काम नहीं करता था, जबकि पूरा परिवार मजदूरी करता था। उसे एक नर्तकी के रूप में काम करने के लिए मजबूर किया गया था और बाद में उससे खेत में काम करने के लिए भेजा दिया जाता था।
वह अपने जीवन से हताश और दुखी थी। उसके पास कोई सामाजिक और आर्थिक सुरक्षा नहीं थी। उसके पति ने 10 साल बाद उसे छोड़ दिया।
फूलवती की तरह, इस क्षेत्र में हर साल सैकड़ों लड़कियों की खरीद-फरोख्त की जाती है।

इम्पॉवर पीपल एक ऐसा संगठन है जो मानव तस्करी के विरुध अलख जगाने का काम करती हैं और तस्करी के पीड़ितों के साथ काम करने पर केंद्रित है।

कृपया संस्था को एसी पीड़ितों को सहायता प्रदान करने की मुहीम में हमारी मदद करे।  

ख्याति अरोरा
कार्यकर्त्ता  
एंपोवेर पीपल
फूलवती की कहानी

फूलवती (बदला हुआ नाम), हरियाणा के पानीपत जिले के एक गाँव के बाहरी इलाके में रहती थी। उसको उस जगह की धुंधली स्मृति थी। वह अपने पिछले जीवन की तुलना वर्तमान जीवन के साथ निरन्तर करती रहती थी। जब उसकी अजिविका का एक मात्र स्रोत सीधा (एक प्रकार का धार्मिक दान) था।
पारंपरिक गायकों के घर में उसे 13 साल की उम्र में मोलकी (जिसे खरीदा जाता है) के रूप में बेच दिया गया था। उसका पति काम नहीं करता था, जबकि पूरा परिवार मजदूरी करता था। उसे एक नर्तकी के रूप में काम करने के लिए मजबूर किया गया था और बाद में उससे खेत में काम करने के लिए भेजा दिया जाता था।
वह अपने जीवन से हताश और दुखी थी। उसके पास कोई सामाजिक और आर्थिक सुरक्षा नहीं थी। उसके पति ने 10 साल बाद उसे छोड़ दिया।
फूलवती की तरह, इस क्षेत्र में हर साल सैकड़ों लड़कियों की खरीद-फरोख्त की जाती है।

इम्पॉवर पीपल एक ऐसा संगठन है जो मानव तस्करी के विरुध अलख जगाने का काम करती हैं और तस्करी के पीड़ितों के साथ काम करने पर केंद्रित है।

कृपया संस्था को एसी पीड़ितों को सहायता प्रदान करने की मुहीम में हमारी मदद करे।  

ख्याति अरोरा
कार्यकर्त्ता  
एंपोवेर पीपल
Rs.4,618 raised

Goal: Rs.600,000

Beneficiary: EMPOWER PEOPLE info_outline

Supporters (7)

A
Anonymous donated Rs.18
PS
Prajakta donated Rs.500
PK
Parth donated Rs.500
A
Anonymous donated Rs.500
A
Anonymous donated Rs.2,100
A
Anonymous donated Rs.500