Plight Of The Saranda And Tribes Of Jharkhand

Plight of The Tribes in Jharkhand. 

Journalist Sanjay Mehta, who went and stayed in Saranda village in Jharkhand, witnessed the plight and the worsened living conditions of the tribes people in the area .

Sanjay Mehta is a journalist and a student of law hailing from Hazaribagh, Jharkhand.

The journalist went and stayed with the tribes people of Saranda, thereby witnessing their living conditions.

Sanjay Mehta’s report reveals the plight of tribes have been completely neglected by the system and the government leading to their shambolic living conditions.

Sanjay Mehta, a student of law at Vinoba Bhave University, is also a journalist hailing from Hazaribagh, Jharkhand. On 21st June, Mehta decided to visit Saranda forest region to get a closer glimpse of the various tribes that inhabit the place. This was Sanjay Mehta’s own initiative as he considers himself personally bonded with the clan.

Having visited many villages in the region and living among these tribes, Mehta developed a deeper understanding of the poor living conditions of these people who are ignored by both, the system as well as the government.

The Saranda forest, which lies in the West Singhbhum district, is approximately 200Kms away from Ranchi, the capital of Jharkhand. Mehta reports that the living condition of the people is inhumane. The tribal clan is desperate for a better life. He continues that the offsprings of these people are victims of malnutrition and their present condition is fretting.

The pregnant women have frightful conditions to encounter every day throughout their pregnancy. Additionally, there are problems with the drinking water due to its high iron ore content. Mehta has discovered these problems since his visit to the region where the entire atmosphere is tragical and disappointing. Ignored by the authorities, it is as if these people are left to work things out on their own. Such situations suffered by the entire ethnic group is ridiculously disturbing.

Villages like Meghahatuburu, Kotgarh, Gua, Tatiba, Lokasi, among many others, are struggling for basic necessities of life. The doctors in the hospitals are under-staffed, schools lack students who suffer from malnutrition while the entire community have only the nature for survival (which isn’t enough in today’s world). Having failed completely, the questions should be aimed towards the Govt.

Sanjay Mehta also alleges that the Feb 2017 report prepared by UNICEF and the Central Govt has falsely estimated that only 20% of the kids in the Saranda region suffer from malnutrition. Having lived there for 15 days now, the journalist estimates a much higher statistic than 20%. He reports that almost every kid is under-nutrition and often even minor diseases are life threatening. These deaths go unnoticed and often ignored.

The Govt. facilities are non-existent. The water problem combined with extreme unemployment implies just how badly the Govt has been performing. Even basic electricity is a rare thing in some villages. In some areas, the roads are constructed badly, and in others, you can only see crooked paths.

The region is a mining paradise making it complicated for development policies to be implemented here. Most of the land is leased out to SAIL, a public sector company, and thus the amount of money received from the centre for development is often sent back. SAIL has its own CSR initiative and therefore, do not provide an approval certificate. Although the officers have been urged time and again to look into the matter, there still has been no progress.

In his report, Sanjay Mehta has also documented the experiences of the villagers. Many people also told that the poor quality of water has infected their feet and nails. The women of Noamundi grieved that they fry insects as their meal. It is, in fact, an essential nutrition in their diet at this time of the season.

One villager has expressed his frustration aimed at the government. He said that the kids of the village are dying of malnutrition and malaria. The government is paying no attention to it.

Another man from a village called Kiriburu has declared the government’s policies as a complete failure. The people of the village have not reaped any benefits that the government had promised.

Juda Bodra, hailing from the Gua village, stated “I am unemployed and have no benefits from the state. This is very difficult for us”.

Badapasia village resident Ghanshyam Bobonge said that the conditions for tribe’s people are miserable. “We are living the lives’ of the lowest class. No officials come and address our griefs”.

When the journalist highlighted this issue in a Facebook post, it was reported and henceforth removed. The Journalist also concludes that gradually the villagers are getting more and more angry towards the establishment, which is unhealthy for any political system.

सारंडा क्या है ?

सारंडा झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम जिले में स्थित विशाल जंगल है. यहाँ सात सौ पहाड़ हैं.सारंडा का अर्थ होता है सात सौ पहाड़.

सारंडा के कुछ हिस्से झारखंड के अलावा उड़ीसा , छत्तीसगढ़ में भी आते हैं. इस जंगल में साल (सखुआ) के वृक्ष सबसे अधिक हैं.

सारंडा साल वृक्षों का एशिया महादेश का सबसे बड़ा जंगल है. इस विशाल जंगल में हाथी सबसे अधिक पाए जाते हैं.

जंगली भैंस , भालू , तेंदुआ आदि भी इस जंगल में हैं. इस क्षेत्र में किरीबुरू - मेघाहातुबुरु प्रसिद्ध स्थल हैं. यह हिल स्टेशन है. यहाँ का मौसम गर्मियों में भी शुष्क होता है.

इन जंगलों में आदिवासियों की हो जनजाति निवास करती है. इनके जीवन की निर्भरता मुख्य तौर पर प्रकृति पर है.

भीषण जंगलों के बीच बसने वाले आदिवासियों की जिंदगी अत्यंत चिंतनीय है.स्थिति बदतर है. बच्चे , युवा , वृद्ध , महिला अपनी जिंदगी से जद्दोजहद कर रहे हैं. हम इन आदिवासियों की बेहतरी के लिए प्रयास कर रहे हैं.

हम  कौन  हैं ?

हम सब एक टीम हैं. जिसमें 10 युवा शामिल हैं.सभी युवा झारखंड के हैं. टीम के सदस्य पत्रकारिता , लॉ , मेडिकल ,बीटेक , एमसीए , सोशल वर्क आदि विषयों से जुड़े हैं.

हम क्या करना चाहते हैं ?

हम सारंडा क्षेत्र के आदिवासियों की जिंदगी को संवारना चाहते हैं. कुपोषित बच्चों को पोषण देना चाहते हैं. गर्भवती महिलाओं के लिए जरूरी सुविधा उपलब्ध कराना चाहते हैं.शिक्षा , स्वास्थ्य , पानी , बिजली , सड़क की समस्या यहां विकराल है इन समस्याओं के निराकरण में हम अपना योगदान देना चाहते हैं.

सारंडा क्षेत्र में आदिवासियों की दुर्दशा को देखते हुए हमलोगों की टीम  ने सारंडा में 30 दिनों से भी अधिक वक्त गुजार कर आदिवासियों की स्थिति को नजदीक से जाना और समझा है.

हम सारंडा में अभी क्या कर रहे हैं ?

सारंडा क्षेत्र के आदिवासियों के बीच जाकर , गाँव - गाँव पहुंचकर हम आदिवासियों की समस्याओं को लिख रहे हैं, उन समस्याओं पर हम संबंधित विभाग , पीएमओ और सरकारी कार्यालयों को लिखित रूप में सूचित कर रहे हैं.

फिलहाल हमारी समस्या क्या है ?

फिलहाल हम संसाधनों के आभाव में जूझ रहे हैं. संसाधन नहीं होने के कारण हम चाह कर भी आदिवासियों को बड़ी मदद नहीं कर पा रहे हैं. हम चाहते हैं कि हमारी इस कोशिश को आपका सहयोग मिले.

हमारी आगे की योजना क्या है ?

इस क्षेत्र में लगभग बच्चे मलेरिया एवं कुपोषण से पीड़ित हैं. हम सबसे पहले बच्चों की जान बचाना चाहते हैं.

गाँवों में बच्चो के लिए पोषण युक्त खाद्य  पदार्थ , दवाई आदि चीजों को नियमित तौर पर उपलब्ध कराना हमारी योजना में शामिल है.

गर्भवती महिलाओं को उचित चिकित्सा सलाह , खान - पान , दवाई आदि उपलब्ध कराना हमारी योजना है.

हमारी योजना क्षेत्र में मुफ्त एम्बुलेंस सेवा की व्यवस्था करना है.

स्वास्थ्य सुविधाओं , सेवाओं को बहाल कर लेने के बाद हम आदिवासियों के बीच शिक्षा को लेकर काम करेंगे.

हम सिर्फ कुछ दिन नहीं बल्कि एक मिशन के तौर पर अंतिम सफलता तक काम करेंगे. हम युवाओं ने इसे अपने जीवन का लक्ष्य माना है. हमारी टीम सारंडा के  आदिवासियों  के लिए जीना चाहती है.

हमारी टीम अपने स्तर से मिशन को अंजाम दे रही है .

हमारी टीम फिलहाल अपने स्तर से मिशन को अंजाम दे रही है. टीम के सभी सदस्य अपने अपने खर्चे से मिशन को आगे बढ़ा रहे हैं.

हमारे पास किसी प्रकार की न सरकारी सहायता है और न ही किसी संस्था की सहायता. आदिवासियों की जिंदगी के लिए हमें मिशन में मदद की जरूरत है.

हम आपकी मदद चाहते हैं

इस मिशन को मंजिल देने के लिए , बच्चों की जिंदगी बचाने के लिए , आदिवासियों की बेहतरी के लिए , कुपोषण को दूर भगाने के लिए , जननी की सुरक्षा के लिए हम इस मिशन में आपकी मदद चाहते हैं.






https://www.newsgram.com/exclusive-journalist-sanjay-mehtas-report-on-the-plight-of-tribes-in-jharkhand/
https://www.youthkiawaaz.com/2017/07/%E0%A4%9D%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%96%E0%A4%82%E0%A4%A1-%E0%A4%95%E0%A5%87-%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%82%E0%A4%A1%E0%A4%BE-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%86%E0%A4%A6%E0%A4%BF%E0%A4%B5/
http://www.youthensnews.com/jharkhand-village-saranda-aadivasi-story/

https://www.lionexpress.in/national/jharkhand/hindi-latest-adivasis-condition-worse-in-saranda-of-jharkhand/

http://dehatidunia.com/jharkhands-sarandha-has-not-changed-status-of-tribals/

http://hindi.newsdogshare.com/a/article/595b06d1450b7b298b0fb73c/?from=590ef7a62a9b571e83db12f6

http://medianaisubah.com/the-condition-of-tribals-in-Saranda-is-worse-in-jharkhand


http://newmorningnews.com/the-condition-of-tribals-in-Saranda-is-worse-in-jharkhand

http://koylanchalsambad.com/2017/07/05/%E0%A4%9D%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%96%E0%A4%82%E0%A4%A1-%E0%A4%95%E0%A5%87-%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%82%E0%A4%A1%E0%A4%BE-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%86%E0%A4%A6%E0%A4%BF%E0%A4%B5/











सारंडा क्षेत्र के आदिवासियों के साथ टीम के सदस्य
सारंडा क्षेत्र के आदिवासियों के साथ टीम के सदस्य
आदिवासियों से हाल जानने के बाद टीम के सदस्य
आदिवासियों से हाल जानने के बाद टीम के सदस्य
गांव में घूमते बच्चे
गांव में घूमते बच्चे
आदिवासी बच्चे से हाल जानते संजय
आदिवासी बच्चे से हाल जानते संजय
गांव की तस्वीर
गांव की तस्वीर
गांव में खेलते आदिवासी बच्चे
गांव में खेलते आदिवासी बच्चे
आदिवासी महिला
आदिवासी महिला
एक बीमार आदिवासी पुरूष
एक बीमार आदिवासी पुरूष
आयरन युक्त पानी पीने को मजबूर हैं गांव के लोग
आयरन युक्त पानी पीने को  मजबूर हैं गांव के लोग
अभियान में साथ निभाकर प्रसन्नता जाहिर करती गांव की लड़कियां
अभियान में साथ निभाकर प्रसन्नता जाहिर करती गांव की लड़कियां
अभियान में साथ निभाती गांव की लड़कियां
अभियान में साथ निभाती गांव की लड़कियां
गांव वालों की समस्याओं को नोट करते टीम के सदस्य
गांव वालों की समस्याओं को नोट करते टीम के सदस्य
आदिवासी महिला और बच्चा
आदिवासी महिला और बच्चा
कुपोषित बच्चा
कुपोषित बच्चा
कुपोषित बच्चा
कुपोषित बच्चा
एक पंचायत के मुखिया से गांव का हाल जानते टीम के सदस्य
एक पंचायत के मुखिया से गांव का हाल जानते टीम के सदस्य
सड़कों किनारे खेलते कुपोषित बच्चे
सड़कों किनारे खेलते कुपोषित बच्चे
घरेलु कार्यों में व्यस्त एक आदिवासी महिला
घरेलु कार्यों में व्यस्त एक आदिवासी महिला
एक आदिवासी वृद्ध
एक आदिवासी वृद्ध
जंगलों में लकडियां ढुुंढती आदिवासी महिला
जंगलों में लकडियां ढुुंढती  आदिवासी महिला
आदिवासियों का घर
आदिवासियों का घर
आदिवासियों का घर
आदिवासियों का घर
आदिवासियों का घर
आदिवासियों का घर
गंदे पानी का इस्तेमाल बर्तन धोने के लिए करते हैं ग्रामीण
गंदे पानी का इस्तेमाल बर्तन धोने  के लिए करते हैं ग्रामीण
गांव में परेशानी पूछते टीम के सदस्य
गांव में  परेशानी पूछते टीम के सदस्य
ग्रामीणें के साथ गांव में बैठकर परेशानी पूछते टीम के सदस्य
ग्रामीणें के साथ गांव में बैठकर परेशानी पूछते टीम के सदस्य
क्षेत्र की एक मुखिया से हाल जानने की कोशिश
क्षेत्र की एक मुखिया से हाल जानने की कोशिश
गांव के बच्चे
गांव के बच्चे
एक गांव का रास्ता
एक गांव का रास्ता
गांव की एक दुकान
गांव की एक दुकान
सारंडा जंगल का नजारा
सारंडा जंगल का नजारा
19 माह की कुपोषित बहन को हड़िया पिलाती एक छोटी बच्ची
19 माह की कुपोषित बहन को हड़िया पिलाती एक छोटी बच्ची
बर्तन मांजती आदिवासी बच्ची
बर्तन मांजती आदिवासी बच्ची
कुपोषित बच्चे
कुपोषित बच्चे
अपनी दादी के साथ एक कुपोषित बच्चा
अपनी दादी के साथ एक कुपोषित बच्चा
कोलई (मेफ्लाई) कीड़े को बेचती आदिवासी महिला
कोलई (मेफ्लाई) कीड़े को बेचती आदिवासी महिला
कोलई (मेफ्लाई) कीड़े
कोलई (मेफ्लाई) कीड़े
सारंडा वन क्षेत्र प्रवेश करने का रास्ता
सारंडा वन क्षेत्र प्रवेश करने का रास्ता
कुपोषित बच्चे
कुपोषित बच्चे
पोखरपी पंचायत में कुपोषित बच्चे
पोखरपी पंचायत में कुपोषित बच्चे
https://www.newsgram.com
https://www.newsgram.com
https://www.youthkiawaaz.com
https://www.youthkiawaaz.com
https://www.lionexpress.in
https://www.lionexpress.in
https://www.newsgram.com
https://www.newsgram.com
https://www.youthkiawaaz.com
https://www.youthkiawaaz.com
http://www.youthensnews.com
http://www.youthensnews.com
http://koylanchalsambad.com
http://koylanchalsambad.com
namamibharat.com
namamibharat.com
http://newmorningnews.com
http://newmorningnews.com
http://hindi.newsdogshare.com
http://hindi.newsdogshare.com
http://medianaisubah.com
http://medianaisubah.com
https://www.lionexpress.in
https://www.lionexpress.in
http://dehatidunia.com
http://dehatidunia.com
Jharkhand Jagran
Jharkhand Jagran
Nav Pradesh Ranchi
Nav Pradesh Ranchi
Rashtriye Khabar
Rashtriye Khabar
Pratyush NavBihar
Pratyush NavBihar
After Brake Delhi
After Brake Delhi
Naya India
Naya India
News Clip
News Clip
Ask for an update
6th August 2017
क्षेत्र की अलग - अलग पंचायतों में अलग अलग समस्याएं हैं. टीम के सदस्य फिलहाल  पंचायत की समस्यायों को दर्ज कर रहे हैं. समस्याओं को दर्ज करने के बाद सरकार के संबंधित विभागों को इसकी सूचना टीम द्वारा दी जाएगी.समस्याओं को दर्ज करते टीम के सदस्य
समस्याओं को दर्ज करते टीम के सदस्य

Ask the campaign organizer

comments powered by Disqus
Content Disclaimer: The facts and opinions, expressed in this fundraiser page are those of the campaign organiser or users, and not Milaap.
Rs.7,189
raised of Rs.9,000,000 goal

23 Supporters

8 Days to go

Payment options: Online, cheque pickups

Beneficiary: SARANDA info_outline

Supporters (23)

A
Anonymous donated Rs.100

keep smiling

AP
Ashish donated Rs.1,000

Let's make our Jharkhand a better place for humanity and human beings.

A
Anonymous donated Rs.250
priti
priti donated Rs.500
St
Sirisha donated $25
A
Anonymous donated $16

May Sai and shiva thandri help your endeavor and bless these children